गांव बडख़ल में तेन्दुए ने बकरियों को मारा, पीडि़तों को मिले मुआवजा :धर्मबीर भड़ाना

61
Faridabad Aone News/ Dinesh Bhardwaj :14 सितम्बर : गांव बडख़ल में जिस प्रकार से तेन्दुए ने रात्रि को घरों में घुसकर बकरियों को निर्ममता से मारा है, उससे ग्रामीणों में भय का माहौल है। अलग-अलग स्थानों पर जाकर 18 बकरियों को मारा गया है,
जिससे गरीब परिवारों को भारी आर्थिक नुकसान हुआ है। इसलिए प्रशासन को इस मामले की जिम्मेदारी लेते हुए उन गरीब परिवारों को जिनकी रोजी-रोटी का जरिया ये बकरी थी, उचित मुआवजा दे और उनकी सुरक्षा का इंतजाम करे। भड़ाना ने कहा कि वन विभाग द्वारा अलग-अलग क्षेत्रों से जंगली जानवरों एवं अजगरों को लाकर अरावली वन क्षेत्र में छोड़ा जा रहा है, मगर अरावली श्रृंखला के साथ लगने वाले गांवों को सुरक्षा के कोई बंदोबस्त प्रशासन द्वारा नहीं किए गए हैं। आज यह इतना बड़ा हादसा हुआ है, कल को ये जंगली
जानवर इंसानों को भी अपना शिकार बना सकते हैं। तेंदूए की खबर मिलते ही ग्रामीण महिलाएं एवं बच्चे सकते में हैं और उनमें भय बना हुआ है। आप नेता धर्मबीर भड़ाना को जैसे ही गांव बडख़ल में तेन्दूए द्वारा बकरियों को मारने की सूचना मिली, वो मौके पर पहुंचे और हालातों का मुआयना लिया। उन्होंने पीडि़त परिवारों के दर्द को जाना और उनको प्रशासन से उचित मुआवजा दिए जाने की मांग की। उन्होंने कहा कि इससे पूर्व भी ग्रामीणों ने कई बार तेन्दूए एवं अजगर यहां पर देखे हैं, जो अक्सर पहाड़ों में चरने वाली बकरियों को अपना शिकार बना लेते हैं। मगर अब तो हालात ऐसे हो गए हैं कि तेन्दूए गांव में घुसकर बकरियों को मारने लगे हैं। प्रशासन को शीघ्र
ही लोगों की सुरक्षा के बन्दोबस्त करने चाहिएं या तो यहां पर तार फेन्सिंग कराई जाए या बाउन्ड्री वॉल क्योंकि बडख़ल पर्यटन केन्द्र होने की वजह से अक्सर यहां पर लोगों का आना-जाना लगा रहता है, कल कोई बड़ी घटना घटे इससे पूर्व सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम यहां करने चाहिए । इस मौके पर उनके साथ हाजी सलीम, हाजी कासिम, फजर खां, फकरुदीन, हाजी सत्तार, राजूद्दीन, हाजी शब्बीर, हाजी नौशाद आदि मौजूद थे।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Themetf