पद्मश्री सुरेंद्र शर्मा ने डीएवी शताब्दी कॉलेज में दिए हास्य व् व्यंगात्मक रचनाओ से गहन सन्देश

24
Faridabad Aone News/ Dinesh Bhardwaj: फउंडेशन अगेनस्ट थैलिसिमिआ और डी ए वी शताब्दी कॉलेज के संयुक्त तत्वाधान में थैलिसिमिआ के प्रति जागरूकता करने के उदेश्य से कार्यक्रम का आयोजन किया गया | इस कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि देश के प्रसिद्ध कवि पदमश्री सुरेंदर शर्मा ने उपस्थित हुए| कार्यक्र्म की अध्यक्षता फाउंडेशन के प्रधान हरीश रतरा ने की | इस कार्यक्र्म में थेलेसिमिया ग्रस्त 80 बच्चो, उनके माता पिता ने भाग लिया साथ ही विभिन्न सामाजिक संगठन के पदाधिकारी ने भी भाग लिया|इस कार्यक्रम में रविंदर डुडेजा ने थैलेसीमिया बीमारी के बारे में जानकारी देते हुए उन्हें इससे लड़ने के उपाय भी बताए गए जिससे अमल में लाते हुए जीवन भर समझदारी से चलने का आग्रह किया गया|इस मौके पर पदमश्री सुरेंद्र शर्मा ने अपने हास्य एवं व्यंग्यात्मक रचनाओं से सभी को गुदगुदाने के लिए मजबूर कर दिया | उन्होंने इन्हीं रचनाओं से समाज के लोगों को रक्तदान जैसे जीवंत मुद्दों पर अपना संदेश दिया | मुख्य अतिथि ने वर्तमान शिक्षा पद्धति पर प्रश्न उठाते हुए पुरातन शिक्षा प्रणाली को अधिक महत्वपूर्ण बताया | उन्होंने वर्तमान शिक्षा को ज्ञान से अधिक अंक अर्जित करने का माध्यम बताया | उनका वक्तव्य अंग्रेजी भाषा संसार को काट देती है परंतु भारतीय भाषा संस्कार देती है | वर्तमान में हिंदी भाषा को सहेज कर रखने की ओर इशारा करती है उन्होंने मानव को सबसे अधिक सोच को बड़ा करने की सीख देते हुए भटकाव और ठहराव के बीच में अंतर बताया | सहज सरल और सटीक भाषा में सुरेंद्र शर्मा ने अपने संदेश से सभी का मन जीत लिया | कॉलेज प्राचार्य डॉ सतीश आहुजा ने सभी गणमान्य अतिथियों का धन्यवाद ज्ञापित करते हुए मुख्य अतिथि सुरेंद्र शर्मा की उपस्थिति को कॉलेज के लिए स्मरणीय बताया | प्राचार्य डॉ सतीश जाने सुरेंद्र शर्मा के संदेशों को अनुकरण करने की सलाह देते हुए उन्हें इस कॉलेज में आने पर कॉलेज के सभी छात्रों एवं सभी के लिए सौभाग्य का विषय बताया | थैलेसीमिया फाउंडेशन के महासचिव रविंद्र डुडेजा ने कॉलेज की प्रशंसा करते हुए कहा कि जब भी उन्हें रक्त की आवश्यकता होती है डीएवी शताब्दी कॉलेज हमेशा तैयार रहता है|इस मौके पर फाउंडेशन के प्रधान हरीश रतरा एवं अन्य पदाधिकारी के साथ बी दास बत्रा, जेके भाटिया, पवन कुमार, रविंद्र राणा, लोचन भाटिया, अनुराधा भाटिया, बबीता भाटिया, अरुण भाटिया, दर्शन भाटिया, कमल खत्री, कामिनी बांगा, गुरध्यान, संध्या अहूजा, संजय अहूजा आदि लोग मौजूद रहे|अंत मे हरीश रतरा ने सभी उपस्तिथ लोगो का संस्था का साथ देने के लिए धन्यवाद किया। अंत में रविंदर डुडेजा ने सुरेंदर शर्मा जी आग्रह किया की वो संस्था का सन्देश समाज में देते रहे ताकि 2025 के बाद एक भी थैलासीमिया ग्रस्त बच्चा न पैदा हो जो संस्था का सब से बड़ा मिशन है जिसके लिए उन्होंने कहा वो मंच के माध्यम के लोगो को थैलासीमिया के बारे में अवगत करते रहेंगे।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Themetf