हरियाणा की हवालातों में मानवाधिकार उल्लंघन के खिलाफ करेंगे संघर्ष : विजय कौशिक

125
Faridabad Aone News/ Dinesh Bhardwaj : 30 जून। हरियाणा प्रदेश कांग्रेस कमेटी के मीडिया प्रभारी विजय कौशिक ने कहा है कि हरियाणा के सभी पुलिस थानों में मानवाधिकारों का उल्लंघन हो रहा है। पुलिस अपनी डयूटी से बचने के लिए निर्दोष लोगों व जघन्य अपराधियों के साथ एक जैसा व्यवहार करते हुए उन्हें नंगा करके हवालात में बंद करती है। जबकि ऐसा कोई कानून नहीं है कि हवालात में लोगों के कपड़े उतारकर बंद किया जाए। इसलिए मानवाधिकार आयोग इस मुद्दे पर कड़ी कार्यवाही करे। अगर आयोग ने तुरंत कोई एक्शन नहीं लिया तो भाजपा शासन के इस जुल्म के खिलाफ हाईकोर्ट में याचिका दायर की जाएगी।
राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग एवं मानव अधिकार आयोग हरियाणा को भेजी एक शिकायत में प्रदेश कांग्रेस कमेटी के मीडिया प्रभारी विजय कौशिक ने कहा कि दिनांक 22 जून 2018, दिन शुक्रवार की रात को फरीदाबाद की ग्रीन फिल्ड कालोनी के सैंकड़ों लोग कई दिन से चली आ रही बिजली-पानी की समस्या से बुरी तरह त्रस्त होकर स्थानीय विधायक सीमा त्रिखा के घर के बाहर प्रदर्शन करने पहुंच गए। जहां पर राजनीतिक दबाव के चलते थाना एन.आई.टी. के एसएचओ सुभाष ने सुनियोजित तरीके से पहले तो प्रदर्शनकारियों को पीटा जिसमें छोटे-छोटे बच्चे भी थे, उसके बाद भगदड़ मचने पर काफी लोग भाग गए तो बचे हुए लोगों को उनके परिवारजनों के सामने ही यह कहकर वहां से पुलिस की गाडिय़ों में बैठा लिया कि बिजली विभाग के आला अधिकारियों के पास आपको ले जाकर आपकी समस्या सुलझाई जाएगी।
लेकिन एसएचओ सुभाष 18 लोगों को बिजली विभाग के आला अधिकारियों के पास ना ले जाकर एन.आई.टी. थाने में ले गया जहां उनके ऊपर शांति भंग करने एवं शोर मचाने के मामले में धारा 107, 151 के तहत कार्यवाही करके उनके कपड़े उतरवाकर केवल अंडरवियर में समाज के 18 पढ़े-लिखे लोगों को हवालात में नंगा बंद कर दिया गया। जहां से अगले दिन दोपहर बाद जमानत मिलने के बाद उन्हें छोड़ा गया।
प्रदेश कांग्रेस के मीडिया प्रभारी विजय कौशिक ने कहा कि हरियाणा पुलिस ने पूरे प्रदेश के थानों में अपनी डयूटी से बचने के लिए अपना एक काला कानून बना रखा है कि किसी भी व्यक्ति को गिरफ्तार करो तो उसके कपड़े उतरवा कर उसे हवालात में बंद करो। चाहे कोई व्यक्ति 302 के केस में मुल्जिम है अथवा उसे शांति भंग के आरोप में गिरफ्तार किया गया है, चाहे वह जघन्य अपराधी है अथवा कोई समाज का प्रतिष्ठित व्यक्ति है सभी को नंगा करके हवालात में बंद करो जिससे कोई व्यक्ति हवालात में आत्महत्या ना कर ले।
पुलिस की डयूटी बनती है कि वह हवालात में बंद लोगों पर नजर रखे, ना कि अपनी डयूटी से बचने के लिए उन्हें नंगा करके हवालात में बंद करे। इस प्रकार तो जेल में भी प्रत्येक कैदी को नंगा करके बंद किया जाना चाहिए। हरियाणा पुलिस मानव अधिकारों का उल्लंघन कर रही है। एक व्यक्ति के ऊपर जब तक दोष सिद्ध ना हो जाए उससे पहले ही उस व्यक्ति को नंगा करके हवालात में बंद रखना एक अमानवीय कृत्य है। जिसके खिलाफ कड़ी कार्यवाही होनी चाहिए। हरियाणा पुलिस को चाहिए कि वह कैदियों पर नजर रखने के लिए हवालात में कैमरे लगवाए अथवा अलग से कर्मचारी नियुक्त करें, लेकिन किसी भी स्थिति में किसी भी व्यक्ति को नंगा बंद नहीं किया जाना चाहिए। इतना ही नहीं नंगा बंद करने की स्थिति में व्यक्ति अंदर चादर लेकर भी नहीं सो सकता। इसके अलावा मच्छर, जनित रोग व अन्य मौसमी बिमारियां होने का खतरा भी बढ़ जाता है।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Themetf