घुड़चढ़ी की खिलाफत करने वालों को दलित बेटी ने ऐसे दिया जवाब..

138

करनाल. हरियाणा की एक बेटी ने समाज में फैली एक कुरीतियों और जातिवादियों को सीधे चुनौती दी. उसने जातिवादी मानसिकता रखने वाले लोगों को सबक सिखाने की दिशा में पहल की है.

अजय नगर निवासी उर्मिला ने अपनी शादी में कुछ उसने ऐसा किया कि वह चर्चाओं में आ गयी हैं. उर्मिला 6 बहनों में सबसे छोटी हैं. जिस कारण परिवार में वे लाड-प्यार के साथ पली-बढ़ी हैं. दुलारी होने की वजह से उनके फैसले को घर का कोई भी मना नहीं करता है.

करनाल और नारायणगढ़ में दलित दूल्हों को घोड़ी पर नहीं बैठने वाली खबर को जब से उसने देखा है तबसे उसके मन में एक ही सवाल बार-बार आता है कि आज हम 21वीं सदी में जी रहे है. फिर भी कुछ लोग समाज में जाति-पाति का जहर घोल रहे हैं.

उर्मिला के मन में ख्याल आया कि जिस तरह आज समाज में बेटा-बेटी भेद-भाव को भुलाकर लड़कियों के जन्म पर कुआं पूजन जैसी रस्में अदा करते हैं. उसी तरह मैं भी अपनी शादी में लड़कों की तरह से घोड़ी पर बैठूंगी. फिर क्या था, उर्मिला ने दुल्हन के रूप में घुड़चढ़ी कर जातिवादी समाज को सबक सिखा दिया.

उर्मिला एक महिला एनजीओ से भी जुड़ी है जिसमें महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाया जाता है.

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Themetf