केजरीवाल सरकार की बढ़ी मुश्किलें, सत्येंद्र जैन के खिलाफ CBI ने दर्ज किया केस

166

नई दिल्‍ली. दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार के लिए मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं. जहां एक और दिल्ली नगर निगम के चुनाव के लिए कुछ ही दिन शेष हैं वहीं मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में सीबीआई ने सत्येंद्र जैन के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली है. सत्येंद्र जैन पर हवाला काबोरियों के साथ सीधे संपर्क रखने का भी आरोप था.

 सीबीआई का आरोप है कि जैन 2015-16 के दौरान लोक सेवक रहते हुए प्रयास इंफो सोल्यूशन प्राइवेट लिमिटेड, अकिनचंद डेवलपर्स प्राइवेट लिमिटेड और मंगलायतन प्रोजेक्ट्स प्राइवेट लिमिटेड के जरिए 4.63 करोड़ रुपये के धनशोधन में शामिल थे. जैन के खिलाफ आरोपों में इन कंपनियों और इंडोमेटल प्राइवेट लिमिटेड के जरिए 2010-12 के दौरान 11.78 करोड़ रुपये के कथित धन शोधन का भी मामला है.

सीबीआई का कहना है की उसने जो रिपोर्ट इनकम टैक्स से मिली उसे आधार बनाकर प्रिलिमिनरी एंक्वायरी दर्ज की है. सीबीआई के एक अफ़सर ने बताया, “मामला नया बेनामी लेनदेन निषेध कानून के खिलाफ आयकर विभाग द्वारा सीबीआई को भेजा गया था, उसे हमने अपनी जांच का आधार बनाया है.” CBI के मुताबिक, जांच के दौरान पता चला कि जैन के नियंत्रण वाली कंपनियों को कोलकाता स्थित जीवेंद्र मिश्रा, अभिषेक चोखानी और राजेंद्र बंसल नाम के तीन हवाला कारोबारियों की 56 शेल कंपनियों से 16.39 करोड़ रुपये मिले.

हालांकि जैन खुद पर लगे इन आरोपों से इनकार करते रहे हैं. केजरीवाल सरकार के इस वरिष्ठ मंत्री का कहना है कि हवाला कारोबारियों से उनका कोई नाता नहीं और इस मामले में उन्हें आरोपी नहीं, बल्कि गवाह के रूप में बुलाया गया था. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि कुछ कंपनियों की जांच में उनका नाम सामने आया, जिनसे वह पहले जुड़े हुए थे और इसी संबंध में उनको समन किया गया था.

इससे पहले हाल ही में आई शुंगलु कमिटी की रिपोर्ट के बाद से ही केजरीवाल सरकार बैकफुट पर है.

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Themetf