लिंग्याज विद्यापीठ में मनाया 7वाॅ वार्षिक दीक्षांत समारोह

31

Faridabad Aone News/ Dinesh Bhardwaj :लिंग्याज विद्यापीठ में 7वाँ वार्षिक दीक्षांत समारोह मंगलवार 06 नवम्बर को अयोजित किया गया। कार्यक्रम की शुरूवात माँ सरस्वती के चरणोंमेंपुष्पअर्पितद्वारा की गई।साथहीप्रो. जी.वी.के. सिन्हा जी के प्रतिमा पर पुष्पअर्पितकरउनकास्मरणकियागया।कान्वकेशनके मुख्य अतिथि प्रो. (डाॅ) फुरकाॅन काॅमर, सेकरेटरी जर्नल, एसोसिएशन आॅफइंडियन यूनिवर्सिटीथेतथाकार्यक्रम के गेस्टआॅफआॅनरडाॅसुब्रमण्यम बासुदेवन, सीनियर साइंस्टि एवं प्रोफेसर, सेंट्रेल इलेक्ट्रोरकैमिकल रिसर्च स्टीयूट, सीएसआईआर, इंडिया थे।
दीक्षांत समारोह में डाॅ डी.एन.राव (कुलपति) ने विद्यापीठ की वार्षिक रिर्पोट प्रस्तुत की साथ ही उन्होने विद्यापीठ में हुई नवीनीकरण के संदर्भ में पाठ्यक्रम, लैबोरिट्रिज, कम्प्यूटर लैब, इलेक्ट्रोनिक आधुनिकीकरण तथा अन्य क्षेत्रों में हुए रचानात्मक कार्याे पर प्रकाश डाला। उन्होने कहा कि विद्यापीठ में करीब 3500 विद्यार्थियों मेे से लगभग 15 प्रतिशत छात्राऐं हैं, जिन्होने इस वर्ष विद्यापीठ में अपना प्रवेश करवाया है। साथ ही उन्होने विद्यापीठ में हुई 78 प्रतिशत प्लेसमेंट रिकार्ड पर जोर दिया जोकि उद्योग में एक महत्वपूर्ण रिकार्ड है। उन्होने कहा कि विद्यापीठ के होनहार एवं मनोहर विद्यार्थी आज टीसीएस आईबीएम व सर्वश्रेष्ठ आईटी कम्पनी में कार्यरत हैं।इस वर्ष विद्यापीठ की प्रतिष्ठित फैकल्टियों ने एमओयू परहस्ताक्षरकियेहैंतथाडाॅराव ने बताया कि विद्यापीठ के विद्यार्थी पूरे भारत वर्ष में अच्छी-अच्छी कम्पनियों व अन्य विभागों में नौकरियां कर रहे हैं। जो आज यहां आकर काफी खुश नजर आ रहें हैं।
प्रो. (डाॅ) आर.के. चैहान (उपकुलाधिपति), ने सभी विद्यार्थियों को बधाईयां दी और कहा कि विद्यार्थी आगे भी इसी प्रकार से कड़ी मेहनत करते रहेंगें तो एक दिन ऐसा आयेगा कि सफलता इनके कदम चुमेंगी और आपको तरक्की की ओर बढने से कोई भी नहींरोकपायेगा।प्रो. डाॅआर. के. चैहान ने यह बताया कि विद्यापीठ के विद्यार्थियों ने कडी मेहनत कर सफलता हासिल की है जिसकी बदौलत आज विद्यार्थी इंफोसिस, काॅग्निजेंट, आईबीएन, टेक महिन्द्रा, टीसीएम आदि कम्पनियों में उच्च पदों पर कार्यरत हैं, जिससे हमें बहुत गर्व है।
समारोह के अन्तर्गत मुख्य अतिथि प्रो. (डाॅ) फुरकाॅन काॅमर, ने कहा कि विद्यार्थी का जीवन केवल डिग्री लेना ही नहीं बल्कि हमें अपने जीवन के हर क्षेत्र में खरा उतरना है। साथ ही उन्होने विद्यार्थियों को बधाई देते हुए कहा कि विद्यार्थी ही देश के भविष्य जिसके बल पर देश आगे बढ़ता है। कार्यक्रम के गेस्ट आॅफ आॅनर डाॅ सुब्रमण्यम वासुदेवन ने विद्यार्थियों को अपनी अनुसंधान उपलब्धियों के बारे में बताते हुए कहा कि विद्यार्थियों को भी नयी-नयी तकनीकियों की खोज करते रहना चाहिए और अपनी शैक्षिक उपलब्धियों को सामाजिक कार्याे के लिए उपयोग में लाना चाहिए।
मंच पर विभिन्न गणमान्य विद्वानों ने छात्रों से देश और समाज के हित में कार्य करने की अपील की।इसदौरानविभिन्नविभागों के टाॅपरकोस्वर्णपदक व नकदपुरस्कारसेसम्मानितकिया गया। इस वर्ष कुल 563 छात्रोंऔरविद्वानस्नातकों ने डिग्री व डिप्लोमालिया,जिसमें 159 बी.टेक व एम.टेक, इन्टीग्रेटेड, 34 आक्टिेचर, 65 काॅर्मस एण्ड मैनेजमेंट, वाणिज्य एवं प्रबंधन, 40 शिक्षा, 29 डिप्लोमा (इंजिनियरिंग डिप्लोमा), 17 कम्प्यूटर आॅपलिकेशन, 22 कला स्नातक, 42 विज्ञान स्नातक, 18 पीएचडी, 47 फांर्मेसी डिप्लोमा, 56 एमबीए इनलेड, 9 पीजीडीएमइनलेड, 13 एनआईएलए व 12 मास्टरआॅफसाइंस व एमबीए थे।
दीक्षांत समारोह की अकादमिक मार्च की पूर्ण अध्यक्षिता विद्यापीठ की रेजिस्ट्रार श्रीमति सीमा ब्रुशरा द्वारा की गई। अन्त में डीन आॅफ एकडीमिक्स, डाॅ. पेमिला चावला, ने वोट आॅफ थैंक्स प्रस्तुत करते हुए दीक्षांत समारोह में उपस्थित चिफगेस्ट व गेस्ट आॅफआॅनरकासम्मानकियातथासाथहीउन्होनेविद्यापीठ प्रबंधन समिति समेत सभीडीन, विभागाध्यक्ष, फैक्लिटीमेम्बरस, कर्मचारियों, प्रेस व मीडिया मेम्बरस, अभिभावकों एवं विद्यार्थियो का धन्यवाद प्रकट किया।

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Themetf