सेना की सुरक्षा से खेल रहा प्रशासन

226

एवन न्यूज़, जालंधर : जिला प्रशासन खुले आम सेना की सुरक्षा से खिलवाड़ कर रहा है. ओर्डिनेन्स डिपो के आसपास किये गये अवैध निर्माण की जांच के लिये डीसी की ओर से जारी किये गये आदेश कागजों से बाहर नहीं निकल पाये हैं.

दरअसल, डिफेन्स एक्ट के मुताबिक सेना के आर्म बेस एमुनिशन डिपो और फील्ड एम्यूनिशन डिपो के आसपास एक निर्धारित दायरे में कोई भी अवैध निर्माण नहीं किया जा सकता. इसके बावजूद जालंधर के सूरानुस्सी स्थित सेना के ओर्डिनेन्स डिपो के आसपास न सिर्फ अवैध निर्माण हुए बल्कि पूरी बस्तियां ही बसा दी गईं.

आरटीआई एक्टिविस्ट रवींदर पाल सिंह चड्ढा ने जब आरटीआई के तहत नगर निगम से प्रतिबंधित एरिया में किये गये निर्माण और डवलप की गई कालोनियों के सम्बंध में जानकारी मांगी तो हैरान करने वाले तथ्य सामने आये. निगम की ओर से दी गई जानकारी में स्पष्ट रूप से यह कहा गया कि प्रतिबंधित एरिया में निगम ने न तो कोई कालोनी पास की है और न ही किसी भी इमारत का नक्शा पास किया है. कुछ माह पूर्व एक दैनिक अखबार ने इस मामले को प्रमुखता से उठाया तो डीसी वरिंदर कुमार शर्मा ने जांच के आदेश देने की बात कहकर पल्ला झाड़ लिया.

डीसी ने एक जांच कमेटी को जांच सौंपने की बात भी कही थी लेकिन न तो आज तक डीसी के आदेश फाईलों से बाहर निकल पाये और.न ही जांच कमेटी की जांच एक क़दम का भी फासला तय कर पाई. डीसी के आदेशों को फिलहाल तीन माह से भी अधिक का समय गुजर चुका है. करोड़ों रुपये के इस भ्रष्टाचार के खेल में लिप्त अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई को लेकर डीसी बिल्कुल भी गम्भीर नज़र नहीं आ रहे.

यही वजह है कि सेना के अधिकारियों की सैकड़ो शिकायतों के बावजूद डीसी ने आज तक एक भी शिकायत पर कार्रवाई करना ज़रूरी नहीं समझा.  डीसी की इस लापरवाही के चलते सेना की सुरक्षा पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं. यहां पाकिस्तान से आने वाले लोग भी रह रहे हैं जिनकी वेरिफिकेशन तक नहीं की गई है. ऐसे में अगर कोई हादसा होता है तो हजारों जिंदगियां मौत के आगोश में समा जायेंगे.

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Themetf