भारत-चीन सीमा पर भारतीय सेना बना रही है बंकर

196

उत्तरकाशी : चमोली में चीनी सैनिकों की घुसपैठ और डोकलाम में भारत-चीन के बीच बढ़ रही दूरी का असर उत्तराखंड से लगी सीमा पर भी नजर आने लगा है. 1962 के युद्ध के बाद यह पहला मौका है, जब सेना सक्रिय हुई है. सेना के बंगाल इंजीनियरिंग ग्रुप ने पुराने बंकरों की मरम्मत के साथ ही नए बंकरों का निर्माण शुरू कर दिया है.

ITBP के कमांडेंट केदार सिंह रावत ने बताया कि सीमा पर हाई अलर्ट है और सुरक्षा के लिए सभी इंतजाम किए जा रहे हैं. 345 किमी सीमा चीन लगती है उत्तराखंड में उत्तराखंड में 345 किलो मीटर लंबी सीमा चीन से लगती है . इसमें से 122 किलो मीटर उत्तरकाशी जिले में है.

समुद्रतल से 3800 से लेकर 4600 मीटर की ऊंचाई पर पड़ने वाले इस शीत मरुस्थल में आइटीबीपी के जवान 9 चौकियों में चौबीसों घंटे निगहबानी कर रहे हैं. दरअसल वर्ष 1962 से पहले इस इलाके में दो गांव थे जादूंग और नेलांग. युद्ध के बाद इन गांवों को विस्थापित कर दिया गया था. उस समय सेना ने हर्षिल कारछा, नेलांग के साथ ही कुछ अन्य स्थानों पर बंकर बनाए थे. अब एक बार फिर परिस्थितियां बदली हुई लग रही हैं. गौरतलब है कि चमोली के बाड़ाहोती क्षेत्र में जुलाई में ही चीनी सैनिकों के दो बार घुसपैठ की सूचनाएं मिली हैं.

#Aonenewstv.com

You might also like More from author

Leave A Reply

Your email address will not be published.

Themetf